Followers

Tuesday 28 December 2010

बहुत उपयोगी है सहजन का पेड़-various use of drumstick tree

     सहजन का पेड़ भारत वर्ष में बहुतायत से पाया जाता है | इसके लिए ज्यादा ठण्ड नुकसान दायक है गर्मी कितनी भी हो झेल लेता है | बहुत दिनों से सोच रहा था इस पेड़ के बारे में लिखने के लिए लेकिन किसी न किसी कारण से ये पोस्ट लिखने का कायक्रम आगे खिसकता रहा |
सहजन का पेड़ फूल और फली के साथ

     सहजन का अंग्रेजी नाम ड्रमस्टिक,संस्कृत नाम सोभांजना, आयुर्वेद में मोक्षकाद्व और वानस्पतिक नाम मोरिंगा ओलीफेरा (moringa oleifera ) है | सहजन के बारे में काफी वैज्ञानिक खोजे हुई है | और बहुत से परिणाम भी निकाले गए है |
सहजन के बारे में कुछ निम्न तथ्य है :-

  • फिलीपीन्स, मैक्सिको, श्रीलंका, मलेशिया आदि देशों में भी सहजन की काफ़ी माँग है।
  • दक्षिण भारतीय लोग इसके फूल, पत्ती का उपयोग विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में साल भर करते हैं।
  • इस पौधे के सभी भागों का उपयोग विभिन्न कार्यों में किया जाता है।
  • सहजन के बीज से तेल निकाला जाता है और छाल पत्ती, गोंद, जड़ आदि से आयुर्वेदिक दवाएं तैयार की जाती हैं।
  • इसमें दूध की तुलना में ४ गुना कैल्शियम और दुगना प्रोटीन पाया जाता है।
  • सहजन के बीज से पानी को काफी हद तक शुद्ध करके पेयजल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।  
     ये तो थी तथ्यों की बात अब मै बताता हूँ इसका देशी स्टाइल में फायदा | मेरे घर में पांच छ साल से से इसका पेड़ है | इसका पेड़ लगाना बहुत ही आसान है | इसका पेड़ इतना आसानी से लग जाता है की आप को यकीन नहीं होगा की जिस झोपडी के बीम में इसकी लकड़ी का उपयोग किया जाता हो उसमे भी बगैर मिट्टी के ही पत्तियां फूट नि्कलती है | और यहां तक की एक पेड़ को मैंने एक जगह से दूसरी जगह स्थनांतरित भी किया था जिसका तना तकरीबन दो फुट परीधी का था और वजन लगभग आधा टन था | और उस तने को स्थान ना मिलने की वजह से तीन महीने तक धुप में बगैर पानी और मिट्टी के जमीन पर चित पडा रहा था | उस पर एक भी पत्ती नहीं थी | उस तने को जब तीन महीने बाद खड़ा कर मिट्टी में दबाया गया और पानी दिया तो उसमे भी अंकुरण हुआ और पेड़ फिर तैयार हो गया जिसे आप तस्वीर में देख सकते है |
हमारे घर मे सहजन का वो पेड़ जो स्थनांतरित किया हुआ है 

     अगर आपको मई के महीने में धूप से बचाव हेतु पेड़ चाहिए तो आप जनवरी में इसकी एक शाख जो तकरीबन दस फुट बड़ी हो का वृक्षारोपण कर सकते है तो ये तैयार होकर मई के महीने चारपाई डालकर सोने हेतु छाया दे देगी |कहने का अर्थ ये है की ये बहुत जल्दी विकास करता है |

     इसके फूलो की सब्जी मुझे बहुत पसंद है ,थोड़ा मेहनत वाला काम जरूर है लेकिन स्वाद एक बार जिसे लग जाए वो इसको जिन्दगी भर नहीं भूल सकता है | सब्जी बनाने की विधी -:
इसके फूलों को जो खिले ना हो उनको तोड़ लीजिए कडाही में तेल गर्म कीजिए उसमे प्याज अदरक लहसुन हरी मिर्च आदि भून लीजिये | उसमे सब्जी का मसाला यथा लाल मिर्च धनिया पाउडर हलदी,नमक आदि पानी के साथ मिक्स करके डाल देवे | जब मसाला पक जाए तब उसमे सहजन के फूल(कलियाँ) डाल देवे थोड़ा पानी और मिला देवे जो की पकने पर जल जाता है,अगर आप चाहे तो इसमें टमाटर भी डाल सकते है या फिर पकने के बाद थोड़ा टमाटर सॉस भी मिलाया जा सकता है | तीन मिनट बाद सब्जी को तैयार होने के बाद चूल्हे से उतार लेवे | आपकी लाजवाब सब्जी तैयार है | ये सब्जी जितनी स्वादिष्ट होती है उतनी ही गुणकारी भी होती है | इस सब्जी को बदहजमी वाले,मधुमेह वाले ,ह्रदय रोग के मरीज भी आराम से खा सकते है | इसकी फली की सब्जी भी इसी प्रकार से बनती है अंतर केवल इतना है की फली की सब्जी में पानी की मात्रा ज्यादा रखते है जिससे चावल के साथ भी खाया जा सकता है |
इन फूलों और  कलियों को सब्जी हेतु तोड़ा गया है 

     इसके फूल, फली व पत्तों में इतने पोषक तत्त्व हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) के मार्गदर्शन में दक्षिण अफ्रीका के कई देशों में कुपोषण पीडित लोगों के आहार के रूप में सहजन का प्रयोग करने की सलाह दी गई है। एक से तीन साल के बच्चों और गर्भवती व प्रसूता महिलाओं व वृद्धों के शारीरिक पोषण के लिए यह वरदान माना गया है। हमारे यंहा भी कैन्सर व पेट आदि शरीर के आभ्यान्तर में उत्पन्न गांठ, फोड़ा आदि में सहजन की जड़ का अजवाइन, हींग और सौंठ के साथ काढ़ा बनाकर पीने का प्रचलन है। यह भी पाया गया है कि यह काढ़ा साइटिका (पैरों में दर्द), जोड़ो में दर्द, लकवा, दमा, सूजन, पथरी आदि में लाभकारी है। जोड़ो का दर्द वायु विकार के कारण होता है | और सहजन वायु नाशक माना जाता है|सहजन के गोंद को जोड़ों के दर्द और शहद को दमा आदि रोगों में लाभदायक माना जाता है। आज भी ग्रामीणों की ऐसी मान्यता है कि सहजन के प्रयोग से विषाणु जनित रोग चेचक के होने का खतरा टल जाता है।

     अब आते है पानी साफ़ करने वाली बात पर | इस से पहले भी पानी के शुद्धीकरण के लिए मैंने एक पोस्ट लिखी थी | पानी के शुद्धीकरण के लिए ये उपाय भी आप आजमा सकते है | माइक्रोबायलोजी के करेंट प्रोटोकॉल में कम लागत में पानी को साफ करने की तकनीक प्रकाशित की गई है। यह तकनीक आसान और सस्ती है। इस तकनीक की मदद से विकासशील देशों में जल जनित रोगों से बड़े पैमाने पर होने वाली मौत की घटनाओं पर काफी हद तक अंकुश लगाया जा सकता है। इस तकनीक में पानी को साफ करने के लिए सहजन के बीज का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया के द्वारा पानी को 90.00 फीसदी से 99.99 फीसदी तक बैक्टीरिया रहित किया जा सकता है।

     सहजन दो प्रकार का पाया जाता है एक मीठा दूसरा कड़वा मीठे सहजन का ही उपयोग किया जाता है कडवे का उपयोग नहीं करते है | इस के बारे में कुछ और जानकारी चाहिए तो आप मुझे टिप्पणी द्वारा बताये या सीधे ही मेल करे |

चार लाख रु.लालच भी नहीं भुला सका मित्र की यादें-----ज्ञान दर्पण 

ताऊ पहेली 106 (हवा महल, जयपुर, राजस्थान)

सरसों की फसल और सर्दी परवान पर,    मालीगांव

श्री राजपूत करणी सेना के शीर्ष सस्‍थांपक व कांग्रेसी नेता लोकेन्‍द्र सिंह कालवी ने निशानेबाजी में स्वर्ण पदक जीता----राजपूतवर्ल्ड 

 

 

 

15 comments:

  1. जीवन उपयोगी जानकारी और प्रकृति के अमूल्य उपहार के बारे में जानकार मन हर्षित हुआ ...इतनी बारीकी से और तथ्य परक जानकारी देने के लिए आपका आभार ...धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. इतना गुणकारी पेड
    नाम ही सुना था, अब पहचान भी लेंगे जी
    सब्जी तो आपके घर आकर खायेंगे, बताईये कौन से महिने में आयें।:)
    इस जानकारी के लिये हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  3. @अन्तर सोहिल जी
    इसकी सब्जी जनवरी और फरवरी तक ही मिलती है | वर्ष भर मे केवल ये ही दो महीने है इसके फूल आने के लिए | मेरे सलाह है की आप ये पेड़ घर पर ही लगा ले आप के पास तो जगह भी है | सब्जी बनाने की विधी मैंने बता ही दी है | मेरे यंहा वाली सब्जी बहुत महंगी पड़ेगी आपको |आप जब भी आना चाहे आपका स्वागत है |

    ReplyDelete
  4. वाह ! बहुत बढ़िया स्वास्थ्य वर्धक जानकारी दी आपने |
    नीमकाथाना के आस पास पहाड़ों में एक सेंजनी नामक छोटा पौधा भी होता है जिसे सेंजने का छोटा रूप भी कह सकते है उस पौधे की जड़ से जोड़ों के दर्द की बहुत बढ़िया व असरदार दवा बनती है जिसे आजमाकर भी देखा हुआ है पिछले चौमासे में काफी कोशिश की उसकी जड़े मंगवाने की पर बारिश कम होने के चलते ये पौधे कम पनपे |

    ReplyDelete
  5. बड़ी उपयोगी वनस्पति।

    ReplyDelete
  6. उपयोगी जानकारी और प्रकृति के अमूल्य उपहार के बारे में

    ReplyDelete
  7. जानकारी हेतु बहुत बहुत आभार नरेश राठौर जी..

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर जानकारी जी, लेकिन हमारे यहां तो यह पेड नही मिलेगा ना ही इस की सब्जी मिलेगी, चलिये कभी भारत आये तो अंतर सोहिल या आप के घर खा लेगे, धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. अजी आप भी जुडे ओर अन्य साथियो को भी जोडे...
    http://blogparivaar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. उपयोगी जानकारी ...!

    ReplyDelete
  11. सहजन तो बचपन से खाते आये हैं लेकिन गुण इतने होते हैं पता नहीं था. शहर में भी लोग इसकी फली सांभर में डाल कर या सब्जी बना कर खाते हैं लेकिन शायद सहजन के रूप में उसे नहीं जानते.
    जैसा आपने लिखा सहजन की खास बात एक यह भी है कि सहजन की कोई डाल तोड़ कर ज़मीन में खड़ा गाड़ देने से पेड़ तैयार हो जाता है. इसकी फली की सब्जी बहुत स्वादिष्ट होती है और संभर में डालने पर और स्वादिष्ट हो जाता है.

    उपयोगी जानकारी का शुक्रया

    ReplyDelete
  12. नरेश जी बहुत ही उपयोगी जानकारी प्रदान की है आपने इसके लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  13. नव 2011वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए !

    ReplyDelete
  14. छत्‍तीसगढ़ में हलषष्‍ठी व्रत में सहजन (मुनगा) का साग (भाजी), बिना जोता-बोया मान कर फलाहार के रूप में ग्रहण किया जाता है. कब्जियत, पेट साफ करने के लिए बरसात में मुनगा भाजी, ठंड में बमरूद और गरमी में बेल का सेवन लाभकारी होता है.

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |इस लिए केवल सार्थक टिप्पणी ही करे | टिप्पणी के प्रतिउत्तर में टिप्पणी की आशा न रखे | अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार हेतु टिप्पणी ना करे |