Followers

Friday, December 24, 2010

आपकी जन्म कुंडली में कैसा है भाग्य स्थान -How's your horoscope fortune location


अपने जीवन पर भाग्य या किस्मत का प्रभाव सभी मानते हैं। कहते हैं कर्म से ही भाग्य बनता है लेकिन कई बार पूरी मेहनत से अच्छे कार्य करने के बाद भी संतोषजनक फल प्राप्त नहीं होता। ऐसे में यही बात सामने आती है कि हमारे भाग्य में यह परिणाम ही निर्धारित किया गया होगा। जन्म कुंडली ( horoscope )के अनुसार कड़ी मेहनत के बाद भाग्य की कितनी मदद मिलेगी यह भी मालूम किया जा सकता है।
  • - ज्योतिष में जन्म कुण्डली (horoscope) का नवम भाव भाग्य का होता है। यह स्थान यदि दूषित अथवा अशुभ फल देने वाला हो तो व्यक्ति सदैव भाग्यहीन रहता है।
  • - यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में भाग्य के नवम स्थान पर यदि चंद्र हो या उसकी दृष्टि हो तो वह भाग्यशाली होता है।
  • - यदि भाग्य का स्थान नवम भाव में राहु, मंगल, शनि यदि शत्रु राशि युक्त या नीच के हो तो व्यक्ति भाग्यहीनता से परेशान हो जाता है। उसे छोटे-छोटे कार्यों में भी बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
  • - सूर्य, शुक्र, बुध भाग्य स्थान पर सौभाग्यवती नारी दिलाते हैं। जो व्यक्ति के भाग्य को उच्च शिखर तक ले जाती है।
  • - भाग्य स्थान पर गुरु मान-सम्मान और वैभव दिलाता है। ऐसे व्यक्ति को हमेशा भाग्य का साथ मिलता है और वह कई सफलताएं प्राप्त करता है।
  • - भाग्य स्थान पर केतु सामान्य फल देने वाला होता है।
यदि आपको भाग्य का साथ नहीं मिल रहा है तो किस्मत बदलने में केवल ईश्वर ही सक्षम है। अत: अपने इष्टदेव की प्रतिदिन पूजन, अर्चन, आराधना करें। कुंडली के अशुभ ग्रह का ज्योतिषीय उपचार करें।
(उपरोक्त लेख भास्कर समाचार पत्र से लिया गया है )

22 comments:

  1. लाल किताब के हिसाब से मेरी जन्मकुण्डली की गणना करने पर मेरा पुत्र मुझसे उत्पन्न नहीं होगा।
    लेकिन मेरी पत्नी से तो मुझे पुत्र प्राप्ति हो गई है।
    अब क्या करुं ? क्या अन्जू पर शक करुं कि वो बेवफा है और उसे छोड दूं :) हा-हा-हा

    प्रणाम

    ReplyDelete
  2. ओ बाऊजी भाग्यहीन किसे कहते हैं? ये तो बताईये
    भाग्य तो सबका होता है ना, अच्छा या बुरा

    ReplyDelete
  3. नरेश सिह राठौड़ जी मै इन सब बातो को नही मानता, लेकिन इन से इंकार भी नही करता क्योकि मुझे इन सब के बारे कुछ पता नही, लेकिन एक बात समझ मै नही आती कि सब से ज्याद दुखी लोग भारत, ओर अफ़रीकन देशो मे ही क्यो हे, पाकिस्तान ओर अफ़गानिस्तान की बात अलग हे, बाकी युरोप ओर अमेरिका मे इतने दुखी लोग क्यो नही, वहां कम से कम लोगो को भरपेट खाना तो मिल जाता हे, भारत ओर अफ़्रिका मे तो लोगो को एक समय का खाना भी नसीब नही होता ऎसे बदनसीब लोग भी हे तो क्या सब भागय हीन इन्ही देशो मे पेदा हुये हे? जी नही हमारे यहां लोग इन बातो को ज्यादा मानते हे, ओर खुद ही भाग्या का रोना रोते हे, जब कि उन की मेहनत पर दुसरे ऎश करते हे.
    अगर मै किसी काम ने असफ़ल रहता हुं तो दुसरी तीसरी बार कर्म करने पर जरुर सफ़ल हो जाऊंगा, बस भाग्या को छोड कर कर्म पर जोर देना होगा, ना कि किसी मंदिर मे जा कर पुजा पाठ करनी होगी.यह मेरा विचार हे पता नही ठीक हे या गलत

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाग्य तो होता है और कर्म भी होता है पर हमारी महनत कितना फल देगी और कितनी जल्दी देगी वह सब भाग्य पर निर्भर करता है
      उदहारण : के लिए हमें पहली सन्तान बेटा होगा या बेटी यह हमारे भाग्य पर निर्भर करता है,यहा हमारा कर्म निश्चत फल क्या होगा नहीं बता सकता ,इस को हम भाग्य के भरोसे छोड़ देते है, इसलिए हम कर्म तो कर सकते है पर हमे क्या मिलेगा वह सब भाग्य के हाथ में है।

      Delete
  4. भाग्य तो सबका होता है ना, अच्छा या बुरा ...SATYA VACHAN

    ReplyDelete
  5. पंडित जी जरा हमारा भाग्य भी बाँच दीजिए......पता तो चले कि हमरे भाग्य में का लिखा है. फीस की चिन्ता मत कीजिएगा.भाग खुलने के बाद चुका देंगें :)
    बताईये अपनी जन्मपत्री भेजे का ?

    ReplyDelete
  6. मेरे भागय स्थान मे तो कोई ग्रह नही है। मिथुन राशी है नवम भाव की और बुध दूसरे घर मे सूर्य के साथ विराजमान है। शुक्र लग्नेश की भागय स्थान पर दृशःटी है। वो तीसरे घर धन मे है। अब बतायें कैसा है। तो आप ज्योतिश भी जानते हैं बहुत खुशी हुयी। बधाई।

    ReplyDelete
  7. आदरणीय नरेश जी
    सादर प्रणाम
    आप ज्योतिष भी जानते हैं ...जरा मेरा भाग्य भी बताना .....शुक्रिया

    ReplyDelete
  8. बैसे थोड़ी बहुत जानकारी मैं भी रखता हूँ ...आगे कि शिक्षा आपसे ग्रहण करूँगा ....आदरणीय गुरु जी

    ReplyDelete
  9. क्या करेंगे भाग्य के बारे में जान कर ? कर्म करते रहिये,जो भी होगा अच्छा ही होगा.

    ReplyDelete
  10. अबकी बार बगड़ आयेंगे तो कुंडली साथ लायेंगे :):)

    ReplyDelete
  11. my birth date and time is 08-oct-1977 , 02:15 pm
    Mai apna bhavisya janna chahta hu ki mujhe govt. job kab lagegy ya mai koi business stat karu . ajkal mai computer center chala raha hu per vo kuch achha nahi chal raha he .

    ReplyDelete
  12. PLEASE HELP ME MERE DOB 19/10/1980 HAI, EK MEDIA CHANNEL ME KAAM KAR RAHA HUN, JOB KE LIYE NAYA OFFER AAYA HAI CHANGE KARUN KE NAHI SAMAJ ME NAHI AA RAHA HAI, SO PLEASE HELP ME
    gyatari_neeraj@yahoo.com

    ReplyDelete
  13. SABKO APNE KARMO KA FAL MILTA HAI JO ACHA KARTA HAI USE ACHA FAL MILTA HAI JO BURA USE BUARA....CHAYE TO AAP BHI EK BURA KARAM KARKE DEKH LO TO APPKE SATH BHI BURA HOGA

    ReplyDelete
  14. जरा मेरा भाग्य भी बताना

    ReplyDelete
  15. Mera bhagya batadijiya, mera birth date 24 sep 1994

    ReplyDelete
  16. job and marriege

    kishor meena
    male
    25.12.1988
    03:10 A.M.

    Bikaner (RAJASTHAN)

    ReplyDelete
  17. About Job and marriage of Ashish Gupta Place OBRA, Time )9-40 Am date 07-07-1992 and Saubhagya Gupta Place OBRA, Time 23.35 PM date 22-01-1994.

    ReplyDelete
  18. भाग्य तो होता है और कर्म भी होता है पर हमारी महनत कितना फल देगी और कितनी जल्दी देगी वह सब भाग्य पर निर्भर करता है
    उदहारण : के लिए हमें पहली सन्तान बेटा होगा या बेटी यह हमारे भाग्य पर निर्भर करता है,यहा हमारा कर्म निश्चत फल क्या होगा नहीं बता सकता ,इस को हम भाग्य के भरोसे छोड़ देते है, इसलिए हम कर्म तो कर सकते है पर हमे क्या मिलेगा वह सब भाग्य के हाथ में है।

    ReplyDelete
  19. Mera Bhagy to batana mera nam Dharmendra shende hair mujhe bahut dar lag raha hai Maine apke bare me sauna hop ki ap sahi bhavish bat ate 09644266292 par bhej do

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |