Followers

Monday, December 13, 2010

गूगल रीडर के द्वारा पढ़िए अपने पसंदीदा ब्लोगों की नयी पोस्ट (पुन प्रकाशन )

क्या आप भी Internet पर पढने की आदत रखते हैं?
क्या आपके पसंदीदा Blogs की सूची जरा लम्बी है?
क्या आपका  Email Box केवल आपके Subscribe किए ब्लॉग के पोस्टों से भरा रहता है?
क्या आप भी ब्लोगवाणी और चिठ्ठाजगत की अनियमितता से नयी पोस्ट पढ़ने से वंचित रहते है ?
अगर आपका जवाब “हाँ” हैं तो आपके लिए Google Reader काफी फायदेमंद हो सकता है.
आप अपने पढने के शौक को और मजेदार बना सकते हैं और थोड़ा काम का भी.

चलिए जानते है कैसे. लेकिन पहले कुछ जरूरी और Basic जानकारी.

Google Reader, Google का Feed Reader Application है जिससे आप किसी भी ब्लॉग के Updates यानि उसके नए पोस्टों को पढ़ सकतें हैं.  ये आपके Google Account (Gmail या Orkut वाला) पर ही काम करता है यानि नया Account बनने की जरुरत नही.
पर इसका क्या फायदा है? ये काम तो आप उस ब्लॉग पर जाकर भी कर सकते हैं, तो एक नए जंजाल की क्या आवश्यकता? यही सोच रहें है ना?
तो हरेक ब्लॉग को उसके वेब पते पर जाकर पढ़ना और सबसे बड़ी बात उन्हें याद रखना काफी जटिल काम हो जाता है. और अगर वहां पर कोई नए पोस्ट न हो तो मेहनत बेकार !!! है ना?
तब यहाँ पर Google Reader का काम आता है. इससे आप जितने चाहें ब्लॉग को एक ही जगह से पढ़ सकतें है. बस Google Reader खोलिए और जो भी ब्लॉग अपडेट हुए है उन्हें पढ़ लीजिये या फिर उनकी पुरानी पोस्टों को भी.

और आपको सभी ब्लॉग को Email से भी पढने की जरुरत नही होगी. बस उन्हें अपने Google Reader में Subscribe कर लीजिये और काम खतम.
Google Reader में किसी भी ब्लॉग को Subscribe करने के दो रास्तें हैं.
Manualy Subscription : जिसमे आपको किसी भी ब्लॉग या उसकी Feed का पता डालना होगा और वो आपके Google Reader से जुड़ जायेगी.(नीचे वाले स्क्रीन शोट में आप देख सकते है )
Automatic Subscription : जिस भी ब्लॉग या साईट में लिंक हो “Add To Google” या ऐसा ही कोई और Option हो तो आप उस लिंक पर क्लिक करके ही उसे अपने Google Reader में जोड़ सकतें हैं.


तो ये तो थी ब्लोगों को Google Reader में जोड़ने की विधि.
अब आप स्वतंत्र है खुल के पढने के लिए. और हाँ इससे आपका प्यारा Email Box भी थोड़ा खाली ही रहेगा क्योकि आप अब Email Subscription की जगह Feed Subscription को वरीयता देना शुरु कर देंगे.

Google Reader for Advanced Bookmarking

अगर आप दिन भर में बहुत ज्यादा नई नई Sites या ब्लॉग को देखते रहते हैं तो Google Reader उनमे से कुछ Special को याद रखने में आपकी काफी मदद कर सकता है. आपको बस एक छोटा सा काम करना होगा.
आपके Google Reader में Notes नाम का option होगा.

इस पर क्लिक करने के से आपके save किए गए Notes खुल जायेंगे. और उसके साथ साथ Notes save करने का Bookmarklet भी.

उस Bookmarklet को Drag (खींच) करके अपने Browser के Bookmark Bar में ले जाईये.

बस काम खतम. अब कोई भी Site देखिये और वो important है तो इस Bookmarklet पर Click कर दीजिये.

Google Reader का एक बॉक्स खुल जाएगा और फिर आप वही से इस पेज में Note लगाकर अपने Google Reader Note में  Save कर सकते हैं.
लेकिन Google Reader में login होना मत भूलियेगा.
है ना मजेदार? अब कभी आप ये शब्द नही कहेंगे की “अरे यार Site का नाम याद नही आ रहा है जिसमें मैने उस चीज को देखा था“. बस अपना Google Reader खोलेंगे और वही से Note में जाकर सभी को देख लेंगे.

Social Sharing of Notes and Blog Posts

Google Reader, आपके शेयर किए गए Notes और Blog Posts को दोस्तों और दुनिया से share करने की भी सुविधा देता है.
इसके लिए बस आपको अपने वेब Notes या Blog Post  के नीचे share वाले बटन को Click करना होगा.

आपके share किए Items आपके दोस्तों को मिलते हैं और साथ साथ एक वेब पेज पर भी आ जातें हैं. इस वेब पेज का प्रयोग आप अपनी ऑनलाइन Bookmark लिस्ट के रूप में कर सकतें हैं.

आप देख सकतें है कितने सारी सुविधाएँ है यहाँ पर. तो एक अच्छे दोस्त होने का काम कीजिए और अच्छी चीजों को लोगो को बताईये……….

कैसे लगे ये Google Reader के Advanced प्रयोग?
(नोट- ये पोस्ट अंकित भाई के  ब्लॉग(प्रथम) पर  प्रकाशित हुई थी  अब वो पेज वंहा नहीं नहीं है | अगर ये पोस्ट अब वंहा पर होती तो मुझे दुबारा इसे प्रकाशित करने की आवश्यकता नहीं थी सीधे ही आपको उसका लिंक दे देता | इस पोस्ट का 95 प्रतिशत भाग अंकित भाई का है चित्र मेरे है | इस लिए इसका सारा श्रेय अंकित भाई को जाता है )
 आपके पढ़ने लायक यंहा भी है 





उजळी और जेठवै की प्रेम कहानी और उजळी द्वारा बनाये विरह के दोहे -----ज्ञान दर्पण

भीम और दुर्योधन का टेस्ट : ब्लागाचार्य द्वारा टी.आर.पी. बढाने के लिये?.....ताऊनामा 

सरसों की फसल और सर्दी परवान पर, ............       मालीगांव

 राजपूत वर्ल्ड 

14 comments:

  1. नरेश जी बहुत ही अच्छी जानकारी प्रदान की हैं आपने आशा हैं यह बहुत से ब्लॉगर भाईयों के काम आयेगी।
    अंकित भाई जी को भी यह जानकारी प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद
    यह जानकारी पुनः प्रकाशन कर लोगों तक पहुचाने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद।
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    ReplyDelete
  2. इसकी मुझे बहुत जरूरत थी ! धन्यवाद नरेश भाई !

    ReplyDelete
  3. ये तो आपने बहुत ही काम की जानकारी प्रदान की...अब से इसी को आजमाते हैं.

    ReplyDelete
  4. गूगल रीडर में पोस्ट पढते तो हैं पर आपने जितनी विस्तारित जानकारी दी है उतनी नही थी, बहुत आभार आपका.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. ये बढ़िया है इस औजार से एग्रीगेटर पर निर्भरता कम हो जाती है

    ReplyDelete
  6. इस अति सुंदर जान्करी के लिये धन्यवाद , देखते हे इसे भी

    ReplyDelete
  7. हम तो प्रारम्भ से रीडर में ही रमे हैं।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी और उपयोगी जानकारी....

    ReplyDelete
  9. इधर तो जी इसी का इस्तेमाल करते हैं। कोई पसन्द नहीं है या किसी को हम पढना नहीं चाहते, तो सब्स्क्रिप्शन कैंसल कर दो। ये भी बढिया ऑप्शन है।

    ReplyDelete
  10. बहुत विस्तार से जानकारी दी है आपने गूगल रीडर की ... धन्यवाद ...

    ReplyDelete
  11. बहुत उपयोगी जानकारी दी है आपने। धन्यवाद।

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |