Followers

Sunday 24 April 2011

चर्चा दो ब्लॉगों की

     आज मै आपको दो स्थानीय ब्लॉगों के बारे में बताने जा रहा हूँ | जिसमे से पहला ब्लॉग है माऊ -बाबो और दूसरा है  आवाज अपनी |

     दोनों ब्लॉगों में जो समानता है वो ये है की ये दोनों ही नयी पीढ़ी के ब्लॉगर है जो अभी अध्ययन कर रहे है | दोनों ही राजस्थान के है | दोनों ही कुंवारे है और दोनों में ही कुछ खासियत है जो मै आपके सामने ला रहा हूँ | मै नहीं चाहता की ये ब्लॉग प्रोत्साहन के अभाव में गुम हो जाए |

     माऊ बाबो ब्लॉग के ब्लॉगर है अंगद बारुपाल जी ,ये हनुमान गढ़ के गाँव रोंरावाली के रहने वाले है | अभी कोलेज में पढते है | मै यूही विचरण करते हुए इनके ब्लॉग पर पहुचा | इनके ब्लॉग पर चार पोस्ट अब तक लिखी गयी है | जिसमे इनकी सृजनशीलता की झलक मिलती है | राजस्थानी भाषा में लिखी गयी लघु पोस्ट और चित्रों का सुंदर उपयोग इनके लेखन को बहुत प्रभावशाली बनाता है | जो भी लिखा है उसमे लीक से हट कर लिखा है | मै तो इस ब्लॉग से बहुत प्रभावित हुआ हूँ | अगर आप भी राजस्थानी भाषा की थोड़ी बहुत समझ रखते है तो इस ब्लॉग से प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकते है |

     दूसरा ब्लॉग है आवाज अपनी जिसके ब्लॉगर है तरुण भारतीय | इन से मै आमने सामने भी मिल चुका हूँ ये हमारे गृह जिला झुंझुनू के गाँव गोविन्द पुरा के रहने वाले है | अभी इस वर्ष बी एड कर रहे है | समय समय पर इनकी वार्ता चुरू और जयपुर आकाशवाणी केन्द्र से प्रसारित होती है | इतनी कम उमर में लेखन के प्रती इन का  जज्बा काबिले तारीफ़ है | ये पतंजली योगपीठ की झुंझुनू इकाई में पदाधिकारी भी है | लोगो को योग सिखाते है |

    दोनों ब्लॉगर ऊर्जा से भरे हुए है मै इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूँ |

7 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति ....शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर लगा, जानकारी से भरपुर लेख, धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. मेरी भी शुभकामनायें इन उर्जा से भरे दोनों ब्लोग्गर्स को ......

    ReplyDelete
  4. दोनों को शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  5. उत्साह वर्धन व् मूल्याकंन के लिए आपको शुक्रिया ............आप सभी की उमीदो पर खरा उतरने का प्रयास रहेगा |

    ReplyDelete
  6. अच्छा लगा जानकार ! इन को हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |इस लिए केवल सार्थक टिप्पणी ही करे | टिप्पणी के प्रतिउत्तर में टिप्पणी की आशा न रखे | अपने ब्लॉग या पोस्ट के प्रचार हेतु टिप्पणी ना करे |