Followers

Wednesday, October 13, 2010

गर्व ,गरबा और गुजरात ( एक झलक संगीत की )

गर्व और गौरव से भरपूर है, गुजरात की धरती | इस धरती को अगर नजदीक से जानना है तो आपको इसके पास जाना पडेगा | गुजराती समाज की विशेषताए इतनी है कि मै अपने शब्दों में शायद बयान नहीं कर पाऊंगा | मै ने इस की सस्कृति को , समाज को गुजरात में कुछ समय रहकर ही नजदीक से जाना है |

मै १० साल तक गुजरात के सूरत शहर में रहा था | वंहा इन गुजराती भईयो से इतना घुलमिल गया था कि मुझे राजस्थान व गुजरात में ज्यादा फर्क ही नहीं लगता था | गुजरात में नवरात्र से ही त्योहारों का उत्साह देखते ही बनता है | जवान लड़के लडकिया नवरात्रो से पहले ही अपनी रंग बिरगी पोशाको को तैयार कर लेते है | गरबा और डांडिया कि कोचिंग क्लास में जाना शुरू कर देते है |

सारा वातावरण गरबामय हो जाता है | जगह जगह गलियों में सोसाईटी में गरबा का आयोजन किया जाता है | बीच में मा दुर्गा की एक बड़ी सी फोटो या मूर्ती रखी जाती है | और नृत्य करने वाले उसके चारो और घेरा बनाकर नृत्य करते है बीच में एक गाने वाला और एक ढोल बजाने वाला बैठता है | बहुत सुंदर दृश्य होता है |

अब मै चाहता हूँ कि आपको भी ज्यादा बोर न किया जाए और गरबा के गीत सुनाये जाए | ये गीत गरबा की तीन कैसेट से लिये गए है | जिनके नाम है टहूको, चुन्दडी और खेलैया | तीनो कैसेट में सभी गीत एक से बढ़ कर एक है | मुझे आपको सुनवाने हेतु इसमे से गीत छंटने में भी बहुत परेशानी आयी, किसे रखू और किसे छोडू |



माली गाँव :मन मोहक नजारा गणेशोत्सव की झांकी का
एक वीर जिसने दो बार वीर गति प्राप्त की
राजस्थान के लोक देवता
बगड टाईम्स : बगड गाँव का ब्लॉग

10 comments:

  1. जय जय गरवी गुजरात....

    ReplyDelete
  2. गुजरात के बाहर भी गरबे का बुखार बुरी तरह फ़ैल गया है. प्रशानीय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. श्रीमान नरेश जी गुजरात नवरात्र के बारे जानकारी प्रदान करने के लिए धन्यवाद।
    लेकिन गीत कही दिखाई नहीं दे रहे हैं क्या बात है। आज आपका ब्लॉग बहुत ही धीरे खुल रहा है। क्या बात है।?

    ReplyDelete
  4. सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  5. राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र. और गर्भा. एक सामान है एक ऐसा विडियो जिसे सबको देखना चहिये

    ReplyDelete
  6. सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. पिछले वर्ष गुजरात का गरबा देखकर अभिभूत हो गया।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति जी, वेसे मैने आज तक कभी भी जिनद्गी मे गरबा नही देखा( फ़िल्मो को छोड कर) लेकिन आज आप के लेख से आभास हो गया कि यह गरबा कितना सुंदर होता होगा, धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. अब की बार तो हमारे यहाँ पंजाब में भी गरबा छाया हुआ है.....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर, दुर्गा नवमी एवम दशहरा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामरा्म.

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |