Followers

Monday, September 22, 2008

स्वास्थ्य सम्बन्धी कुछ नुस्खे

क्या आप कील मुंहासो से परेशान है? क्या आप खुजली व चर्म रोगों से परेशान है? आप सोच रहे होंगे कि मै किसी दवा कम्पनी का कोइ प्रोड्क्ट बेच रह हूं। जी नहीं मै यहां आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी कुछ नुस्खे बताने जा रहा हूं
। * १-- यदि आपकी उम्र १४ से ३० वर्ष है तो आपको कील मुंहासो से परेशानी हो सकती है घबराइये मत नीचे लीखी बातों का ध्यान रखें । पहली बात तो यह है कि आप चेहरे की चिन्ता करना छोड. दे, रात्री को १० बजे से पहले सोयें । सुबह सुयोर्दय से पहले उठे ,कुल्ला करके भरपेट गुनगुना पानी पीयें। खाना खाने के बाद १ चम्मच त्रिफला चुर्ण गरम पानी या दूध के साथ लेवें। कब्ज यदि ज्यादा हो तो रात्री को सोते समय १चम्मच कायम चुर्ण(भावनगरवाले शेठ्ब्रदर्श का)लेवें। हरी पत्तेदार सब्जीयां व सलाद ज्यादा से ज्यादा भोजन में शामिल करें। केले,चावल,खिचडी,अनार आदी का परहेज करें तले हुये पदार्थ ज्यादा मात्रा में ना खायें। पपीता,सेव,चीकु,अमरूद,मूली आदि कासेवन करें। दूध में एक से चार चम्मच तक केस्टर आयल(अरन्डी का तेल) मिलाकर पियें । नोट:- ये सब आहारविहार,पथ्य कुपथ्य कइ रोगों में काम आतें है जैसे दाद,खाज,मस्सा(बावासीर) एवं वात रोग जैसे जोडो में दर्द ,पेटका आफरा(गैस)इत्यादि के भी यही नुस्खे हैं।






मैं जानता हूं कि ये सब आप पहले भी सुन चुके है अपने बुजुर्गोंसे लेकिन आपको उनकी बातों पर विश्वास नहीं हुआ। मेरा दावा है कि एलोपैथी में चेहरे के कील मुंहासो की कोइ कारगर दवा अभी तक नहीं बनी है। मैं इस ब्लोग पर जो भी स्वास्थ्य सम्बन्धी बातें लिखता हूं वो सब मेरा निजीअनुभव है। *२--- कई बार पसीने की वजह से हमारे शरीर के कुछ हिस्सो मे खुजली हो जाती है, और पुरानी हो जाने पर तोआदमी को बन्दर बना देती है। यह खुजली ज्यादातर जांघ में होती है। इसे डोक्टरी भाषा में fungal infection(फंगल इनफेक्सन) कहा जाता है।शहरों की प्रदूषण और भागदोड. भरी जीन्दगी इसके लिये कुछ हद तक जिम्मेदार है। पसीने वाली जगह पर टेल्कम पाउडर डालकर इससे बचाव किया जा सकता है, इन्फेक्सन के बाद इसका इलाजआमतोर पर दाद या अन्य खुजली के रूप में किया जाता है जो कि गलत है। इसके इलाज के लिये आप को कुछदिन तक antibiotic tablet - fluconazole 150mg ,200mg जो भी उपलब्ध हो को दिन मे तीन बारलें व bayer कम्पनी की canesten ट्युब दिन में तीन बार लगावें। यदि infection नया है तो गोली लेनेकी जरूरत नहीं पडेगी केवल ट्युब से ही काम चल जायेगा अन्यथा infection गहराई में हो जाने पर tabletकी खुराक भी लेनी पडेगी।*३--- मस्सा(बावासीर) शुराआती स्टेज में हो तो आप यह प्रयोग कर सकते हैं, सुबह शाम हल्के गरम पानी में गुदाका सेक करें उसके बाद विक्स बाम अन्गुली पर ले कर गुदा द्वार पर लगायें। इससे नसों मे जो गांठे बन जाती है वो पिघल जाती है।मेरी अगली पोस्ट भूत प्रेत,अध्यात्म,व अलोकिक शक्तियों के बारे में होगी आप लोग जरूर पढें।



12 comments:

  1. हिन्दी चिट्ठाजगत में इस नये चिट्ठे का एवं चिट्ठाकार का हार्दिक स्वागत है.

    मेरी कामना है कि यह नया कदम जो आपने उठाया है वह एक बहुत दीर्घ, सफल, एवं आसमान को छूने वाली यात्रा निकले. यह भी मेरी कामना है कि आपके चिट्ठे द्वारा बहुत लोगों को प्रोत्साहन एवं प्रेरणा मिल सके.

    हिन्दी चिट्ठाजगत एक स्नेही परिवार है एवं आपको चिट्ठाकारी में किसी भी तरह की मदद की जरूरत पडे तो बहुत से लोग आपकी मदद के लिये तत्पर मिलेंगे.

    शुभाशिष !

    -- शास्त्री (www.Sarathi.info)

    ReplyDelete
  2. घणी उपयोगी जाणकारी दीज्या आपणे। आगान और देता रहज्यो।

    ReplyDelete
  3. आभार जानकारी के लिए.

    ReplyDelete
  4. शुभकामनाएं। आपके जरिए राजस्थान को जानने का मौका मिलेगा। धन्यवाद।

    पवन निशान्त

    http://yameradarrlautega.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. चिटठा जगत में आपका स्वागत है
    आशा करता हूँ की आप नित नई जानकारी देते रहेगें

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  6. सार्थक आलेख धन्यबाद आपका हिन्दी ब्लॉग जगत में स्वागत है
    आपको मेरे ब्लॉग पर पधारने का स्नेहिल आमंत्रण है

    ReplyDelete
  7. आपका चिठ्ठा विभिन्न सार्थक जानकारियों से परिपूर्ण है सौन्दर्यवर्धक जानकारी के लिए पुन: धन्यबाद . मेरे नई पोस्ट "सरकारी दोहे" पढने आप सादर आमंत्रित हैं

    ReplyDelete
  8. उपयोगी जानकारी दी है, शुक्रिया।

    ReplyDelete
  9. इतने पचड़े में पड़ने का समय किसके पास है नरेश भाई।

    ReplyDelete
  10. चिटठा जगत में आपका स्वागत है
    आशा करता हूँ की आप नित नई जानकारी देते रहेगें
    mahanand yadav

    ReplyDelete
  11. पुरानी कब्ज कैसे ठीक होगी ।

    ReplyDelete

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |