Followers

Thursday, January 12, 2017

पानी गर्म करने का साधन(जुगाड़) यानी की गाँव का गीजर ( invention of villager's geyser )

      सर्दियों में स्नान करना सबसे कठिन कार्य लगता है और अगर आप बिजली बचाने वाले विचारशील व्यक्ति है तो आप गीजर जैसे आधुनिकतम विधुत यंत्र का उपयोग मन मार कर ही कर पायेंगे | अगर आप गाँव में रहते है तो, मै आज आपको पानी गर्म करने वाले जुगाडी गीजर के बारे में बताउंगा |

      ये गीजर किसने बनाया था और कंहा बनाया था इसके बारे में ठीक ठाक किसी को नहीं मालुम लेकिन शेखावाटी में तो ये एक पोपुलर साधन है| कुछ लोग कहते है की ये पंजाब में बनाया गया था वंहा सुल्ताना गाँव जो की झुंझुनू जिले में है वंहा के लुहार ने देखा और उसने शेखावाटी में बनाकर इसे प्रसिद्ध कर दिया| इसको जरूरत के हिसाब से ऑर्डर देकर बनवाया जा सकता है| वैसे ये बाजार में 20 लीटर से लेकर 40 लीटर की क्षमता में उपलब्ध है| जो की 5 सदस्यों वाले परिवार के लिए पर्याप्त है | अगर इससे बड़ा परिवार है तो आप बड़ी साईज का भी बनवा सकते है |
   
     इस को बनाने में गैल्व्नाईज लोहे की चद्दर काम में ली जाती है इसमें ईंधन का सम्पूर्ण उपयोग होता है | तथा सभी प्रकार का ईंधन इसमें काम में लिया जा सकता है गीली लकड़ी ,कंडे छाने ,थेपडी, कागज़,गत्ते ,प्लास्टिक सूखे पत्ते इत्यादि | आपके घर का सभी प्रकार का वेस्टेज इसमें डाला जा सकता है | ये 10 से 15 मिनट में पानी गरम कर देता है| इसमें राख निचे जाली वाले स्टेंड से होकर नीचे गिरती रहती है| जब आग जलाते है तो हवा नीचे जाली से होकर ऊपर चिमनी की और बहती है जिससे ईंधन बिना रूकावट के लगातार जलता रहता है
     इसमें पानी चार पांच घंटे तक गर्म रहता है , कम ईंधन में ज्यादा ऊर्जा पैदा होती है | इसे आप अपने घर के हिसाब से बाथरूम में फिटिंग भी करवा सकते है | नीचे के चित्रों से आप ज्यादा समझ सकते है अगर फिर भी आपको इसके बारे में कोइ जानकारी चाहिए या कोइ टिप्स चाहिए तो आप टिप्पणी द्वारा बताईए |


बिना चिमनी के 


सम्पूर्ण गीजर धुआ निकलने की चिमनी सहित 
 

गीजर का जाली वाला स्टेंड 

कार्यरत अवस्था में चिमनी हटाकर देखने पर 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

आपके द्वारा की गयी टिप्पणी लेखन को गति एवं मार्गदर्शन देती है |